Monday, July 27, 2020

तितली


प्यारी तितली कहाँ चली तुम,
फूल छोड़ कर कहाँ चली तुम।
बागो में न जाना तुम,
चिड़ियों के संग उड़ना तुम।
आकाश में न जाना तुम ,
मेरे संग में रहना तुम ।
साथ –साथ हम खेलेंगे,
सखी सहेली बन जाना तुम ।

नाम : तितली
कक्षा : 1
अपना स्कूल सम्राट सेंटर

पेड़


पेड़ हूँ मैं पेड़ हूँ ,
लंबा -चौड़ा पेड़ हूँ ।
पत्ते मेरे हरे – हरे ,
फल हैं मेरे मीठे – मीठे ।
हरे, पीले, लाल –लाल ,
मेरे फल को खाते लोग ।
फिर भी मुझको काटे लोग ,
पेड़ हूँ मैं पेड़ हूँ ।



नाम – रोशन
कक्षा -2
अपना स्कूल सम्राट सेंटर

Saturday, June 6, 2020

पेड़

पेड़ लगाया ऐसा,
झिलमिल तारो जैसा। 
पत्ते हो बिस्कुट जैसे ,
फलों और टॉफी जैसे। 
पेड़ लगाया ऐसा ,
झिलमिल तारो जैसा। 
डाल पकड़ के अलग हिलाऊँ ,
टप -टप बरसे पैसा। 
                  नाम - कल्पना 
                  कक्षा - 2 
              अपना स्कूल सम्राट 

तितली

प्यारी तितली कहाँ चली तू ,
फूल छोड़ कहाँ चली तू। 
बागों में न जाना तू ,
चिड़िया के संग उड़ना तू। 
आकाश में न जाना तू ,
मेरे संग रहना तू। 
साथ -साथ खेलेंगे ,
सखी सहेली बन जाना तू। 
                 नाम -तितली 
                 कक्षा- 1 
         अपना स्कूल सम्राट